अनेक देशों में गर्भपात की उपलब्धता और गर्भनिरोधक गोलियों के इस्तेमाल से संबंधित अनेक नियम हैं । ऐसे देशों में जहाँ गर्भपात कराना वैध है, अधिकांश डॉक्टर गर्भधारण के पहले 10 सप्ताह में मिफेप्रिस्टोन तथा मिसोप्रोस्टल का इस्तेमाल करने के सलाह देते हैं, लेकिन यदि पहले 10 सप्ताह में गर्भावस्था को समाप्त करने की कोशिश करना है तो मिसोप्रोस्टल भी बहुत कारगर साबित होता है । इसके लक्षण स्वाभाविक गर्भपात से बहुत मिलते जुलते हैं और यह किसी अन्य विधि की तुलना में अधिक सुरक्षित भी है ।

चिकित्सकीय गर्भनिरोधक गोलियों में इस्तेमाल की गई दवाई गर्भाशय को आराम देते हुए काम करती हैं और गर्भाशय को संकुचित करती है जिससे गर्भावस्था समाप्त हो जाती है ।

मिसोप्रोस्टल से, आम तौर पर, पहली बार की गोलियों के आपके शरीर में अवशोषित होने के 1 से 2 घण्टे के भीतर, आपको मरोड़ और रक्तस्राव शुरु हो जाएगा । सामान्य रूप से मिसोप्रोस्टल की अंतिम गोलियाँ लेने के 24 घण्टों के भीतर गर्भपात होता है । अक्सर, इससे पहले भी गर्भपात हो जाया करता है ।

यदि आप कर सकें तो बेहतर है कि आप अपने रक्त में गर्भावस्था ऊतक की जाँच करवा लें । यह देखने में छोटे गहरे रंग के अंगूर और महीन झिल्लियों की तरह, या सफेद, फूली परत वाली छोटी थैली की तरह होता है। गर्भावस्था की आयु पर निर्भर करते हुए, ये ऊतक ऊंगलियों के नाखून से छोटे आकार से लेकर अंगूठे के आकार तक के हो सकते हैं । यदि आप इन ऊतकों को पहचान सकें तो आप जान सकती हैं कि गर्भपात की प्रक्रिया पूरी हो गई है या नहीं ।


Check out safe2choose.org


Check out womenonweb.org


Check out womenhelp.org